Ek Year Bad Dekha Tha Unko ( Hindi Shayri )

1 year bad kal dekha tha unko sayad.
Khuda ki inayat thi.
Or To or ( pahli bar aisa hua tha ki o mere pass se Gujar gai. Or mujhe pta tak nhi chala. Phir mere ek dost ne mujhe bataya ki O yaha se abhi gai hai. )
Sayad unhone mujhe dekha hoga.. ya nhi ye confirm nhi hu.
Kyoki mai tej raftar se ja raha tha.. phir maine bike ghumaya , or back gya. Ab jo hua O suniye ,
Pta nhi kyu O bhi thore dur aage Jakar lout gai. O mujhe dekh kar lauti ya kuchh or wjh se pta nhi.
But unka Lout ke aana mujhe tirchhi Nazar se dekhna.. or mera unse nazar milana..
Meri Eid to usi wakt ho gai..
Kya Lg rhi thi. O
Jaise ki.

Aap ise Bhi Padh skte hai

तुम्हारी खूबसूरती की दिन रात तारीफ करता हूँ में….
तुम्हारी तस्वीर लेकर यूँ ही हमेशा देखा करता हूँ में..
क्या करू में..इतनी खूबसूरत जो हो तुम…
जन्नत से आई कोई परी हो तुम…!!!

तुम्हारी ये नशीली आँखें…और उनमे वो गहरे काजल..
उन्हे और भी खूबसूरत बनाती है..
उनमे और भी नशा जगाती है..!!

तुम्हारी ये प्यारे होंठ…और उनमे वो गुलाबी रंग….
छूने को मन करता है..
उनसे बातें करने को दिल करता है..

तुम्हारी ये घने घने ज़ूलफे…और उनमे वो रेशम सा रंग…
उनमे खो जाने को दिल करता है….उसमे सिमट जाने को दिल करता है..!!!

इतनी खूबसूरत हो तुम….औरो से बिल्कुल अलग हो तुम….आँखों की जन्नत हो तुम…
जन्नत से आई कोई पारी हो तुम..

Nilesh

Motivational Quotes

Meri Shayri

Instagram Pe Hume FOLLOW kare

My Facebook Link

My Facebook Page

आखरी लब्ज

Friends – you must read my Sayri.. ( आखरी लब्ज )

दफन हो जाएगी अब मेरे साथ मोहब्त भी मेरी
मलाल ये रहेगा कुछ अल्फ़ाज़ों को आवाज न मिल सकी
जनता हूँ रहेगा सक तुम्हे ताउम्र मेरी मोहब्त पे
और सच ये भी है कि तुम्हे मिल न सकेगा पैगाम भी मेरी मौत का ,
तुमसे उलझनों के बाद, था मैं एक रोज तुम्हारे शहर में
पर तुम्हारी नाराज़गी और मेरे उसूलों से समझौता न कर सका .
जनता हूँ तुम्हे यकीं नहीं होगा, पर कभी पढ़ना गौर से पुराने किस्से हमारी मोहब्बत के
शायद तुम्हे यकीं हो जिस सख्स ने जान गवा दी तुम्हारे खातिर,
वो शायद इतनी भी नफरत का हक़दार नहीं था ,
कुछ रोज बाद गिरेगा पर्दा और कुछ किस्से साफ होंगे
पर ये माकूल सख्स तुम्हारे बगैर उसका इंतज़ार भी न कर सकेगा
तब तुम्हे यकीं तो हो जायेगा, न मेरी मोहब्बत न मेरे वादे फरेब थे .
जायेगा सिर्फ “एक इल्जाम” मेरे साथ मेरे सनम
जिसे कभी मैं तुम्हे खोने के डर से, कभी न कह सका
तुम्हे मोहब्बत में खुदा मैंने खुद किया है ,
अब तुम माफ़ कहाँ करोगी ,
खैर छोडो रहने दो जाने दो ,
लिख रहा हूँ ये पैगाम आखरी साँस, और साँस थमने के बीच
और मोहब्त कि ये सजा देखो, करीब मेरे कोई अपना भी नहीं
छोडो तुम जाने देना, और ये यकीं रखना कि
हर सख्स नहीं होता मुझसा बेगैरत इस जहाँ में
अब तुम किसी और कि वफ़ा में, अपनी ज़िंदगी सवार लेना……………!!
#Nilesh

1.Kisi Se Rooth Kar Darwaza Bhale
Band Kar Lijiye
Par Ek Khidki Jarur Khuli Rakhiye
Gunjaish Ki Ummidon Ki…!!

2.Nahi Chhodi Kami Maine Kisi Bhi
Rishte Ko Nibhane Me
Aane Wale Ko Dil Ka Rasta Bhi Diya
Jaane Wale Ko Khuda Ka Wasta Bhi Diya…!!

3.Khatam Kar Di Thi Zindagi Ki Har
Khusiyan Tum Par
Kabhi Fursat Mile To Sochna Ki
Mohabbat Kis Ne Ki Thi…!

4.Tumhare Ghar Ka Pata Nahi Hai,
To Poochne Me Jhijhak Rahi Hai,
Wo Ek Kamjor Dil Ki Ladki,
Sadak Pe Tanha Bhatak Rahi Hai.

5.Ye Na Samjho Ki Daleele Kam Thi Meri Begunahi Ki,
Mohabbat Katghere Me Thi To Chup Rehna Munasib Tha.

#Nilesh

Ab Fark nhi parta hai ( jai Ojha ) hindi Shayri.

Ek Vaqt Tha Jab Tujhse Beintiha Pyar Karta Tha

एक वक्त था जब तुझसे बेइंतिहा प्यार करता था ,

अब तू खुद मोहब्बत बनी चली आए तो मुझे फ़र्क नहीं पड़ता !

अरे एक वक्त था जब तेरी परवाह करता था ,
अब तो तू मेरी खातिर फना भी हो जाये तो मुझे कोई फ़र्क नही पड़ता

एक वक्त था जब तुझे हजारो Messages लिखा करता था

और कोई काम न था मेरा ,

और कोई काम न था मेरा , दिनभर बस तेरा Last Seen देखा करता था |

अब सुन ले ,

अब सुन ले , अरसा बीत गया है Visit किये हुए तेरी Profile को ,

जा , जा अब 24 घंटे Online रह जा मुझे फ़र्क नहीं पड़ता |

Ek Vaqt Tha Jab Tujhse Beintiha Pyar Karta Tha

एक वक्त था , जब तुझसे बिछड़ जाने का डर लगा रहता था ,

और तू कहीं छोड़ न दे , इस ख्याल भर से मै सहमा सहमा सा रहता था |

लेकिन अब सुन ले , अब सुन ले

इतना जलील हुआ हूँ तेरे इश्क में

इतना जलील हुआ हूँ तेरी इन रोज रोज छोड़ने छाड़ने की आदत से ,

कि तू अब 1 क्या , सौ दफा छोड़ जाये तो मुझे फ़र्क नहीं पड़ता

Ek Vaqt Tha Jab Tujhse Beintiha Pyar Karta Tha

एक वक्त था , जब तुझ बिन एक पल न रह सकता था

एक वक्त था , जब तुझ बिन एक पल न रह सकता था

बैचेन गुमशुदा था , अकेलेपन से डरता था |

बैचेन गुमशुदा था , अकेलेपन से डरता था |

लेकिन अब सुन ले कि अब तो इतना वक्त बिता चूका हूँ ,

इस अकेलेपन में ,

अरे अब तो इतना वक्त बिता चूका हूँ , इस अकेलेपन में ,

कि सुन ले, कि अब ताउम्र तनहा रहना पड़ जाये तो मुझे फ़र्क नहीं पड़ता

Ek Vaqt Tha Jab Tujhse Beintiha Pyar Karta Tha

एक वक्त था जब तुझे कोई छु लेता , तो मेरा खून खौल उठता था |

और इसलिए मै कई दफा इन हवाओ से बैर पाला करता था |

अरे अपने हुश्न के सिवा कुछ नहीं है तेरे पास अगर,

अंग्रेजी में एक कहावत है –

If beauty is all You have

Then Ugly is all You are .

अगर आपके पास सिर्फ और सिर्फ उपर की ख़ूबसूरती है ,

और आपके अंदर कुछ भी नहीं है , तो आप भद्दे ही हो |

तो अपने हुश्न के सिवा कुछ नहीं है तेरे पास अगर,

तो जा, जा किसी के साथ हमबिस्तर भी हो जा तो ,

मुझे कोई फ़र्क नहीं पड़ता |

Ek Vaqt Tha Jab Tujhse Beintiha Pyar Karta Tha

तो अपने हुश्न के सिवा कुछ नहीं है तेरे पास अगर,

तो जा, जा किसी के साथ हमबिस्तर भी हो जा तो ,

मुझे कोई फ़र्क नहीं पड़ता |

इतना गुरुर किया तूने अपने इस मिट्टी के जिस्म पर ,

जा तेरा ये जिस्म किसी और का भी हो जाये तो मुझे कोई फ़र्क नहीं पड़ता |
Ek Vaqt Tha Jab Tujhse Beintiha Pyar Karta Tha

एक वक्त था जब तेरे लिए खुदा से मन्नते मागंता था ,

मुझे तो खुद तो कुछ चाहिए न था , सिर्फ तेरे लिए अपने उस खुदा को आजमाता था |

लेकिन अब सुन ले , अब तो मै न झुकता हूँ , न पूजता हूँ , न मानता हूँ किसी को ,

अब तो भले तो तू खुद खुदा बनी चली आये तो मुझे कोई फ़र्क नहीं पड़ता !!

Ek Vaqt Tha Jab Tujhse Beintiha Pyar Karta Tha

एक वक्त था जब शेर लिखा करता था तेरे लिए , और सुनाता था महफ़िलो में

अरे अब तो अरसे बाद लिखी है ये अधूरी सी कविता तुझ पे

तुझ पे लिखी है इसलिए अधूरी बोल रहा हूँ ………………

अरे अब तो अरसे बाद लिखी है ये अधूरी सी कविता तुझ पे

अब सुन ले कि अब आगे से कुछ भी न लिखा जाये तो

मुझे कोई फ़र्क नही पड़ता !

एक वक्त था ……………………….

अब सुन ले कि अब आगे से कुछ भी न लिखा जाये तो

मुझे कोई फ़र्क नही पड़ता !

बताना तुझे मिल जाए मुझ जैसा कहीं और अगर ,

जा जा तू औरों को आजमा ले तो मुझे कोई फ़र्क नहीं पड़ता !

Ek Vaqt Tha Jab Tujhse Beintiha Pyar Karta Tha

एक वक्त था जब तुझे हजारों की भीड़ में पहचान लिया करता था ,

हिजाब में होती अगर , तो आँखों से पहचान लिया करता था ,

अब तो निगाहों से ओझल किया है मैंने तुझे कुछ इस कदर ,

मोबाइल में अगर तू मेरी आवाज भी सुन रही होगी , तो मुझे कोई फ़र्क नहीं पड़ता

Ek Vaqt Tha Jab Tujhse Beintiha Pyar Karta Tha

खैर फिर भी करता हूँ शुक्रिया तेरा कि ,

तेरे खोने से मैंने बहुत कुछ पा लिया है !

नज्मे , गजले , शायरियां सब मिल गयी है मुझे ,

और इन्होने तो जैसे मुझे गले से लगा लिया है !

अब तो मुझे सुनने वाले भी है ,चाहने वाले भी है , दाद देने वाले भी हैं ,

अब तो विडियो का Notification न जाये फिर भी चैनल Search करके देखने वाले भी हैं………

अब तो मुझे सुनने वाले भी है ,चाहने वाले भी है , दाद देने वाले भी हैं ,

लेकिन सुन ले अब तो इतना बैखोफ हो गया हूँ , कि ये सब भी छोड़ जाये तो

मुझे कोई फ़र्क नहीं पड़ता !!

Ek Vaqt Tha Jab Tujhse Beintiha Pyar Karta Tha

अब तो इतना बैखोफ हो गया हूँ , कि ये सब भी छोड़ जाये तो

मुझे कोई फ़र्क नहीं पड़ता !!

अरे खुद ही मै मस्त हो गया है तेरा ये “जय” इतना

कि अब सुनने आये या न आये फ़र्क नहीं पड़ता !!

Ek Vaqt Tha Jab Tujhse Beintiha Pyar Karta Tha

खैर चाहता तो नहीं था , तुझे ये बेनकाब करू यूँ सबके सामने !

लेकिन सुन ले कि एक बेवफा मेरी कलम से बेइज्जत भी हो जाये तो

मुझे कोई फ़र्क नहीं पड़ता !!

Ek Vaqt Tha Jab Tujhse Beintiha Pyar Karta Tha

याद कर वो वक्त ,

याद कर वो वक्त , जब एक लफ्ज नहीं सुन पाता था मै तेरे खिलाफ

अब देख , देख यहाँ तेरी तौहीन पर , तौहीन पर तालियाँ बज रही हैं

तो मुझे कोई फ़र्क नहीं पड़ता !!

Ek Vaqt Tha Jab Tujhse Beintiha Pyar Karta Tha

Breakup Shayri

1.Mana Ki Dooriya Kuch Badh Se Gyi Hai,
Lekin Tere Hisse Ka Waqt Aaj Bhi Tanha Hi Gujarta Hai.

2.Tumhari Jagah Aaj Bhi Koi Nhi Le Sakta,
Pata Nahi Wajah Tumhari Khubi Hai Ya Meri Kami.

3.Meri Barbaad Zndgi Ki Sazaa Tum Ho,
Mar Mar Ke Ji Rahe Hain Wajah Tum Ho…!!

4.Bahut Zaroori Hai In Ansuon Ka Behna Bhi,
Kisi Ke Dard Ka Sadka Nikalta Rehta Hai.

5.Ab Koi Fark Nahi Padta
Khwaishe Adhoori Rehne Par
Maine Bahut Kareeb Se Dekha
Hai Khud Ko Toot Te Hue…!!

6.Nadaani Me Hum Kise Apna Samajh Baithe,
Jo Dikhaya Us Bewfa Ne Sapna Use Hum
Haqikat Samajh Baithe, Dekho Aaj
Chod Diya Hame Kisi Gair Ke Liye,
Jise Hum Apna Hum Suffar Samajh Baithe.

7.Ye Alag Baat Ab Koi Rishta Nahi,
Pyar Se Kyu Magar Dekhna Chod Du,
Meri Kismat Me Shayed Nahi Tu Sanam,
Kya Khuda Se Tujhe Mangna Chod Du!

#Nilesh

अप्रैल फूल ( April Fool )

अप्रैल फूल” किसी को कहने से पहले
इसकी
वास्तविक सत्यता जरुर जान ले.!!
पावन महीने की शुरुआत को मूर्खता दिवस
कह रहे
हो !!
पता भी है क्यों कहते है अप्रैल फूल (अप्रैल फुल
का
अर्थ है – हिन्दुओ का मूर्खता दिवस).??
ये नाम अंग्रेज ईसाईयों की देन है…
मुर्ख हिन्दू कैसे समझें “अप्रैल फूल” का मतलब बड़े
दिनों से बिना सोचे समझे चल रहा है अप्रैल फूल,
अप्रैल फूल ???
इसका मतलब क्या है.?? दरअसल जब ईसाइयत अंग्रेजो
द्वारा हमे 1 जनवरी का नववर्ष थोपा गया तो उस
समय लोग विक्रमी संवत के अनुसार 1 अप्रैल से
अपना
नया साल बनाते थे, जो आज भी सच्चे हिन्दुओ
द्वारा मनाया जाता है, आज भी हमारे बही
खाते
और बैंक 31 मार्च को बंद होते है और 1 अप्रैल से शुरू
होते है, पर उस समय जब भारत गुलाम था तो ईसाइयत
ने विक्रमी संवत का नाश करने के लिए साजिश करते
हुए 1 अप्रैल को मूर्खता दिवस “अप्रैल फूल” का नाम
दे दिया ताकि हमारी सभ्यता मूर्खता लगे अब आप
ही सोचो अप्रैल फूल कहने वाले कितने
सही हो
आप.?
यादरखो अप्रैल माह से जुड़े हुए इतिहासिक दिन और
त्यौहार
1. हिन्दुओं का पावन महिना इस दिन से शुरू होता है
(शुक्ल प्रतिपदा)
2. हिन्दुओ के रीति -रिवाज़ सब इस दिन के कलेण्डर
के अनुसार बनाये जाते है।
6. आज का दिन दुनिया को दिशा देने वाला है।
अंग्रेज ईसाई, हिन्दुओ के विरुध थे इसलिए हिन्दू के
त्योहारों को मूर्खता का दिन कहते थे और आप
हिन्दू भी बहुत शान से कह रहे हो.!!
गुलाम मानसिकता का सुबूत ना दो अप्रैल फूल लिख
के.!!
अप्रैल फूल सिर्फ भारतीय सनातन कलेण्डर, जिसको
पूरा विश्व फॉलो करता था उसको भुलाने और
मजाक उड़ाने के लिए बनाया गया था। 1582 में पोप
ग्रेगोरी ने नया कलेण्डर अपनाने का फरमान
जारी
कर दिया जिसमें 1 जनवरी को नया साल का प्रथम
दिन बनाया गया।
जिन लोगो ने इसको मानने से इंकार किया, उनको 1
अप्रैल को मजाक उड़ाना शुरू कर दिया और धीरे-
धीरे
1 अप्रैल नया साल का नया दिन होने के बजाय मूर्ख
दिवस बन गया।आज भारत के सभी लोग अपनी ही
संस्कृति का मजाक उड़ाते हुए अप्रैल फूल डे मना रहे
है।
जागो हिन्दुओ जागो।।
अपने धर्म को पहचानो।
इस जानकारी को इतना फैलाओ कि कोई भी इस आने वाली 1 अप्रैल से मूर्खता का परिचय न दे और और अंग्रेजों द्वारा प्रसिद्ध किया गया ये हिंदुओं का मजाक बंद होजाये ।

🚩भारत माता की जय🚩