बेवफा कौन थी

तूने कितनी मिलने की कोशिश की ये तू जानती हैं ,
मेरी मोहब्बत कितनी सच्ची थी ये मैं जानता हूं ,
और रही बात ,
बेवफा कौन था, ये बात तो तेरी सहेलियां भी जानती है ।

धड़कन

धड़कन

हमे आज भी याद है ।

जब हमे भी जब पहली बार मोहब्बत हो गई थी…
हमे लगता था , की काश हमारा प्यार फिल्म जैसा हो …..
नही तो हमारी यह दास्तान कोई कथानक हो ..
कम्बख़्त आखीर कर कथानक हमारा भी हुआ ….
और किरदार हमे भी मिला …
वह बन गयी धड़कन की शिल्पा शेट्टी ..
और हमे किरदार सुनील शेट्टी का मिल गया ।

ओ मुझसे दूर चली गई

ओ मुझसे दूर चली गई

मै क्रिकेट खेल रहा था, time ( above 1pm , month Feb date 21.)
तभी उसका call आया , उसकी आवाज थोड़ी सहमी सहमी सी थी !
मैंने पूछा कुछ हुआ है क्या , उसने कहा नहीं सब ठीक है।
थोड़ी देर बात हुई , फिर उसने जो कहा, ओ मुझे अंदर तक मार गया।
ओ बोली मेरी शादी होने वाली है। अब मै तुमसे बात नहीं कर पाऊंगी , और ना ही तुमसे शादी कर पाऊंगी ।
ये सुन कर मानो मेरी तो जान ही निकाल गई !

मैंने उससे पूछा तुम जब मुझसे प्यार करती हो तो फिर शादी अलग क्यों, तो उसने कहा मेरी शादी घर वालो ने तय की है और। मै माना नहीं कर सकती । वह रोती हुई बोली
मैंने उसे कहा …

“और मेरा? मेरा क्या होगा? तुमको पता है न तुम्हारे सिवा मेरा कोई नही है. तुम्हारे बिना मैं जीने का सोच भी नहीं सकता हूँ. और तुम इतनी आसानी से बोल दी शादी हो रही हो. एक बार भी मेरे बारे में नहीं सोचा तुमने.”

“जो हमारे बिच था एक नादानी था. क्या करना था हमे यह पता नहीं था. गलती सभी से होती है हमसे भी हो गई. उसका मतलब क्या करे तुमसे शादी कर ले. जहाँ मेरे घर वाले करेंगे मैं वही करुँगी.”

उसके चेहरे के भाव बदल गया था. मेरे भी चेहरे का भाव बदल गया था. फर्क बस इतना था कि मैं बाहर से हारा हुआ लग रहा रहा था और वह अनदर से..
फिर मैं बोला …
“हम दोनों ने साथ जीने-मरने की कसमे खाई थी. यही था न वह जगह जहाँ तुमने बोला था “तुम्हारे सिवा मेरा कोई और नहीं हो सकता. जो हो तुम्ही हो और तुम्ही रहोगे. मुझे तुम्हारे सिवा इस दुनिया का कुछ नहीं चाहिए.”
मेरे बातों कुछ इस तरह सुन रही थी मानो पहली बार मीली हो।
कुछ देर के बाद वह तोडी तेज अवाज मे बोली …
“उस टाइम पता नहीं था क्या बोल रही हूँ. गलती हो गई थी. और हाँ मुझे call भी मत करना. *क्यों उनको पसंद नही है मैं किसी से बात करू.”*

मैंने उसे मनाना चाहा पर उसने call काट दी , मैंने फिर बहुत बार कॉल करने की कोशिश की पर उसने कॉल नहीं उठाया ।

कुछ दिन बाद ( शाम का समय था )
मैंने उसके घर के तरफ देखा. चारो तरफ एक जगमगाती लाइट जल रही रही थी. चहल-पहल ज्यादा लग रहा था. घर और आप-पास के पेड़ो में लगे लाउडस्पीकर में बड़े जोर-जोर से हिंदी गाने बज रहे थे.

मै वहां से चला आया । मैं नहीं चाह रहा था कोई मुझे देखे और मेरे दर्द को. जिसे देखना था वह अपने खुशियों में व्यस्त था. गाने मेरे दिल में तीर के जैसे चुभ रहे थे. अंदर से एक बेचैनी खाए जा रही थी. क्या करू, न ही दिल बस में था न मन. धडकन भी अपनी सबसे तेज रफ्तार में थी. जैसे आज ही सब खत्म कर देना है. एक पल को मन किया चले जाऊ उसके पास और पुछू “क्या हक़ है. तुमको किसी को रुलाने का.”
उसकी शादी उसके घर के पास के एक होटल में होने वाली थी ।
बारात धीरे-धीरे होटल के तरफ बढ़ रहा था. आवाज की तेजी बढती ही जा रही थी. जैसे मेरे ही घर के तरफ आ रही हो. बाजे वाले की डंके की चोट में वह जैसे चीख-चीख कर रही हो -“मैं जा रही हूँ. तुमको छोर कर. मेरा शादी हो रहा. मेरा कोई हो गया है. मैं अब तुम्हारी नहीं हूँ. अब मेरे पास कोई और है.”

मै वहां से और दूर चला गया ।
मैं इन शोरो से दूर जाना चाहता था बहुत दूर. ओ अप्रैल की अंधरी रात में कहा जा रहा हूँ पता नही चल रहा था. बस चले जा रहा था. गर्मी में भी मुझे ठंड लग रही थी . मैंने अपना कदम और तेज कर दिया.. मैं जितना दूर जा रहा था आवाज मेरा उतना ही पीछा कर रही थी.

अब मैं गावं से बहार आ चूका था. आवाज पहले से और साफ़ आ रहा था. शादी का रस्म चल रहा है. मैंने दोनों कान बंद किया और वही बैठ गया. निचे क्या है क्या नहीं क्या फर्क पड़ता है. अचानक मेरा मेरा मुह खुला और मैं चीख-चीख कर रोने लगा. और तेज और तेज. कितने दिनों से दबा रखा इन आंसुओ को. आज जी भर के बहार निकलना चाहता था. वहाँ न कोई सुनने वाला था कोई कुछ कहने वाला. रोता ही रहा- रोता ही रहा. जब तक सारे जहर भरे आंसू बाहर नहीं निकल जाए।

बस बैठा -बैठा ईशवर से यही प्रथना कर रहा था कि कोई अभी भी आए और कहे कि वह मेरे लिए सबको छोड़ कर आ रही हैं
अब तो बहुत देर हो चुकी थीं…. वह मझसे दुर चली गई थी।

Ek Year Bad Dekha Tha Unko ( Hindi Shayri )

1 year bad kal dekha tha unko sayad.
Khuda ki inayat thi.
Or To or ( pahli bar aisa hua tha ki o mere pass se Gujar gai. Or mujhe pta tak nhi chala. Phir mere ek dost ne mujhe bataya ki O yaha se abhi gai hai. )
Sayad unhone mujhe dekha hoga.. ya nhi ye confirm nhi hu.
Kyoki mai tej raftar se ja raha tha.. phir maine bike ghumaya , or back gya. Ab jo hua O suniye ,
Pta nhi kyu O bhi thore dur aage Jakar lout gai. O mujhe dekh kar lauti ya kuchh or wjh se pta nhi.
But unka Lout ke aana mujhe tirchhi Nazar se dekhna.. or mera unse nazar milana..
Meri Eid to usi wakt ho gai..
Kya Lg rhi thi. O
Jaise ki.

Aap ise Bhi Padh skte hai

तुम्हारी खूबसूरती की दिन रात तारीफ करता हूँ में….
तुम्हारी तस्वीर लेकर यूँ ही हमेशा देखा करता हूँ में..
क्या करू में..इतनी खूबसूरत जो हो तुम…
जन्नत से आई कोई परी हो तुम…!!!

तुम्हारी ये नशीली आँखें…और उनमे वो गहरे काजल..
उन्हे और भी खूबसूरत बनाती है..
उनमे और भी नशा जगाती है..!!

तुम्हारी ये प्यारे होंठ…और उनमे वो गुलाबी रंग….
छूने को मन करता है..
उनसे बातें करने को दिल करता है..

तुम्हारी ये घने घने ज़ूलफे…और उनमे वो रेशम सा रंग…
उनमे खो जाने को दिल करता है….उसमे सिमट जाने को दिल करता है..!!!

इतनी खूबसूरत हो तुम….औरो से बिल्कुल अलग हो तुम….आँखों की जन्नत हो तुम…
जन्नत से आई कोई पारी हो तुम..

Nilesh

Motivational Quotes

Meri Shayri

Instagram Pe Hume FOLLOW kare

My Facebook Link

My Facebook Page

Tujhe paane k liye mein kuch bhi kar jayunga, ( Long Shayri )

Tujhe paane k liye mein kuch bhi kar jayunga,
Tere kushi k liye duniya se lad jaunga,
Jis raaste ki tu manzil no ho us raste ko mood jayunga,
Jo faisla na ho tere haq mein usse aaj mein tod jayunga,
Tujhe paane k liye mein kuch bhi kar jayunga,
Teri aankon mein agar dikhe kabhi aansu to,
Un aansun ko aankhon mein aapni bhar k door tujse mein kar jayunga,
Teri raah mein aaye agar kaante to,
Unhe aapne daaman mein samet kar teri raah foolon se bhar jayunga,
Tujhe paane k liye mein kuch bhi kar jayunga,
Tujhe pasand na aaya gar mera yah payar to,
Ek khwaab ki tarah teri zindagi se mein chala jaunga,
Tujhe yaad aaye ya na aaye meri sanam,
Par yeh bhi mumkin nahin k mein tujhe bhul jayunga,
Tujhe paane k liye mein kuch bhi kar jayunga,
Zarurat padi payar mein agar qurbaani ki to,
Yeh shart bhi tujse pehle mein poori kar jayunga,
Is qadar chahat hai teri ki agar tu maang le mujse jaan bhi,
To haste haste yeh jaan bhi mere sanam tere naam kar jayunga,
Tujhe paane k liye mein kuch bhi kar jayunga.

#Nilesh

Toh Pata Chale Jai Ojha Lyrics In Hindi : Poetry

जो कभी मोहब्‍बत करो तो पता

चले ।

Toh Pata Chale Jai Ojha
जो कभी तुम मोहब्‍बत करो तो पता चले
सिद्दत से किसी को चाहो तो पता चले
यूं इश्‍क तो किया होगा तुमने भी कई दफा,
लेकिन कभी टूट के चाहो और बिखर जाओ
तो पता चले,
जो कभी मोहब्‍बत करो तो पता चले।
Jo Kabhi Mohabbat Karo To Pata Chale
क्‍या याद है तुमको हमारी मोहब्‍बत का वो जमाना,
वो सर्द रातों में रजाई मे घुसकर मेरा तुमसे घन्‍टों बतियाना,
अरे कितने झूटे थे तुम्‍हारे वो वादे तुम्‍हारे वो Messages,
जो वो Chat पढ़ के दुबारा आके मुझसे नजरे मिला सको तो पता चले,
जो कभी मोहब्‍बत करो तो पता चले।
जो वो जो वो Chat पढ़ के दुबारा आके मुझसे नजरे मिला सको
तो पता चले,
और जो Love you forever लिख दिया करती थी तुम हमेशा आखिर में,
तो कभी फुर्सत में आकर उस Forever शब्‍द के मायने मुझे समझा जाओ तो पता चले,
जो कभी मोहब्‍बत करो तो पता चले।
Jo Kabhi Mohabbat Karo To Pata Chale
खैर अब तो मेरे Call-logs मे भी कहाँ नजर आती हो तुम,
अब तो मेरे Call-logs मे भी कहाँ नजर आती हो तुम,
वो सुबह चार बजे तक चलने वाला फसाना शायद रकीब को ही सुनाती हो तुम, और बाते तो वो भी करता होगा बेहिसाब तुमसे,
लेकिन कभी सर्द रात में फोन चार्ज में लगा के खड़े-खड़े तुमसे बतिया सके तो पता चले,
जो कभी मोहब्‍बत करो तो पता चले।
Jo Kabhi Mohabbat Karo To Pata Chale
और जो कभी तलब हो तलाश हो मेरी तरह उसे भी तुम्‍हारी अगर,
तो ब्‍लाक हो के Facebook पे बार-बार तुम्‍हारा नाम डाल के Search करता रहे तो पता चले,
जो कभी मोहब्‍बत करो तो पता चले।
खैर मैं जानता हूं वो भी नहीं देख पाता होगा तुम्‍हें जख्‍मी होते हुए,
अरे आखिर कोई कैसे देख ले तुम्‍हारे कोमल बदन पर चोट लगते हुए,
अरे यूं मरहम तो वो भी बना होगा तुम्‍हारे घावों पे,
अरे यूं मरहम तो वो भी बना होगा तुम्‍हारे घावों पे,
लेकिन कभी तुम्‍हारी अंगुली कट जाने पर अपनी जीभ तले दबा सके
तो पता चले,
जो कभी मोहब्‍बत करो तो पता चले।
Jo Kabhi Mohabbat Karo To Pata Chale
लेकिन कभी तुम्‍हारी अंगुली कट जाने पर अपनी जीभ तले दबा सके,
तो पता चले,
और जिन्‍दगी तो उसने भी माना होगा तुम्‍हें,
लेकिन कभी खुदा मानके इबादत कर सके तो पता चले,
जो कभी मोहब्‍बत करो तो पता चले।
Jo Kabhi Mohabbat Karo To Pata Chale
खैर अब तो जाती हो तुम उसके संग दो जहानों में,
घूमती हो उसका हाथ थामे शहर-शहर ठिकानों में,
लेकिन है हिम्‍मत तुम में अगर तो जहां किया था मुझसे ताउम्र साथ निभाने का वादा,
कभी उस विराने हो आओ तो पता चले,
हमारी मोहब्‍बत को गुमनाम तो कर दिया है तुमने हर जगह से,
लेकिन वो दरक्‍त जहाँ पे गुदा है नाम मेरा और तुम्‍हारा,
जाओ और उसे बेनाम कर आओ तो पता चले,
जो कभी मोहब्‍बत करो तो पता चले।
Jo Kabhi Mohabbat Karo To Pata Chale
खैर अब तो उसके संग कई राते भी बिताई होगी तुमने,
सिरहाने उसके बैठ कर वो कहानियाँ भी सुनाई होगी तुमने,
सिरहाने उसके बैठ कर वो कहानियाँ भी सुनाई होगी तुमने,
सुबह की चाय भी जो पीती हो उसके साथ अक्‍सर,
और बची हो हलक में थोड़ी सी भी वफा अगर,
सुबह की चाय भी जो पीती हो उसके साथ अक्‍सर,
और बची हो हलक में थोड़ी सी भी वफा अगर,
तो वो जो मेरे मुँह लगी काफी जो मेरे साथ बैठकर पिया करती थी,
उस काफी का एक घूंट भी अपने गले से उतारकर दिखा सको
तो पता चले,
जो कभी मोहब्‍बत करो तो पता चले।
Jo Kabhi Mohabbat Karo To Pata Chale
उस मेरी मुंह लगी काफी का एक घूंट भी अपने गले से उतारकर दिखा सको तो पता चले,
और जो कभी तुम जानना चाहो कि गमे तनहाई क्‍या है,
और जो कभी तुम जानना चाहो कि गमे तनहाई क्‍या है,
तो उस Cafe में जैसे मै जाता हूं अकेले जाके एक शाम बिता आओं तो पता चले,
जो कभी मोहब्‍बत करो तो पता चले।
Jo Kabhi Mohabbat Karo To Pata Chale
खैर, तुम्‍हें तो शायद लगता होगा कि बर्बाद हो गया हूं मैं,
लेकिन नहीं इस गम में रहकर हर गम से आजाद हो गया हूं मैं,
अरे कितना चैन और सुकून हैं उस नींद में,
कितना चैन और सुकून हैं उस नींद में,
जो वो तकिया आंसुओं से गीला करके फिर पलट के उस पे सो सको,
तो पता चले,
जो वो तकिया आंसुओं से गीला करके फिर पलट के उस पे सो सको,
तो पता चले,
जो कभी मोहब्‍बत करो तो पता चले।
Jo Kabhi Mohabbat Karo To Pata Chale
अरे बड़ा मुश्किल है जमाने से अपना गम छुपाना,
बड़ा मुश्किल है जमाने से अपना गम छुपाना,
जो सुबह उठकर एक झूठी मुस्‍कान लिए काम पर निकल सको तो पता चले,
जो कभी मोहब्‍बत करो तो पता चले।
Jo Kabhi Mohabbat Karo To Pata Chale
खैर यूं तो तुमने भी जता दिया कि तुम्‍हें दर्द नहीं होता,
यूं तो तुमने भी जता दिया कि तुम्‍हें दर्द नहीं होता,
और मैं भी हूं बेफिक्र इतना कि मुझे भी फर्क नहीं पड़ता,
मैं भी हूं बेफिक्र इतना कि मुझे भी फर्क नहीं पड़ता,
अरे कोई अफसोस नहीं है मुझे तुम्‍हारे जाने का अब,
कोई अफसोस नहीं है मुझे तुम्‍हारे जाने का अब,
अरे तुम जाओं यार देर से ही सही कभी तुम्‍हें मेरी अहमियत तो पता चले,
जो कभी मोहब्‍बत करो तो पता चले।
Jo Kabhi Mohabbat Karo To Pata Chale
अरे तुम जाओं यार देर से ही सही कभी तुम्‍हें मेरी अहमियत तो पता चले,
लेकिन याद रखना बस इतना कि बहुत आसान है रिश्‍ते तोड़ देना,
किसी को छोड़ देना,
जो ताउम्र किसी एक‍ के होके निभा सको तो पता चले,
जो कभी मोहब्‍बत करो तो पता चले।
Jo Kabhi Mohabbat Karo To Pata Chale

#Nilesh

Toh Pata Chale Jai Ojha Lyrics In Hindi : Poetry

Toh Pata Chale Jai Ojha Lyrics In Hindi : Poetry

जो कभी तुम मोहब्‍बत करो तो पता चले

सिद्दत से किसी को चाहो तो पता चले

यूं इश्‍क तो किया होगा तुमने भी कई दफा,

लेकिन कभी टूट के चाहो और बिखर जाओ

तो पता चले,

जो कभी मोहब्‍बत करो तो पता चले।

Jo Kabhi Mohabbat Karo To Pata Chale

क्‍या याद है तुमको हमारी मोहब्‍बत का वो जमाना,

वो सर्द रातों में रजाई मे घुसकर मेरा तुमसे घन्‍टों बतियाना,

अरे कितने झूटे थे तुम्‍हारे वो वादे तुम्‍हारे वो Messages,

जो वो Chat पढ़ के दुबारा आके मुझसे नजरे मिला सको तो पता चले,

जो कभी मोहब्‍बत करो तो पता चले।

जो वो जो वो Chat पढ़ के दुबारा आके मुझसे नजरे मिला सको

तो पता चले,

और जो Love you forever लिख दिया करती थी तुम हमेशा आखिर में,

तो कभी फुर्सत में आकर उस Forever शब्‍द के मायने मुझे समझा जाओ तो पता चले,

जो कभी मोहब्‍बत करो तो पता चले।

Jo Kabhi Mohabbat Karo To Pata Chale

खैर अब तो मेरे Call-logs मे भी कहाँ नजर आती हो तुम,

अब तो मेरे Call-logs मे भी कहाँ नजर आती हो तुम,

वो सुबह चार बजे तक चलने वाला फसाना शायद रकीब को ही सुनाती हो तुम, और बाते तो वो भी करता होगा बेहिसाब तुमसे,

लेकिन कभी सर्द रात में फोन चार्ज में लगा के खड़े-खड़े तुमसे बतिया सके तो पता चले,

जो कभी मोहब्‍बत करो तो पता चले।

Jo Kabhi Mohabbat Karo To Pata Chale

और जो कभी तलब हो तलाश हो मेरी तरह उसे भी तुम्‍हारी अगर,

तो ब्‍लाक हो के Facebook पे बार-बार तुम्‍हारा नाम डाल के Search करता रहे तो पता चले,

जो कभी मोहब्‍बत करो तो पता चले।

खैर मैं जानता हूं वो भी नहीं देख पाता होगा तुम्‍हें जख्‍मी होते हुए,

अरे आखिर कोई कैसे देख ले तुम्‍हारे कोमल बदन पर चोट लगते हुए,

अरे यूं मरहम तो वो भी बना होगा तुम्‍हारे घावों पे,

अरे यूं मरहम तो वो भी बना होगा तुम्‍हारे घावों पे,

लेकिन कभी तुम्‍हारी अंगुली कट जाने पर अपनी जीभ तले दबा सके

तो पता चले,

जो कभी मोहब्‍बत करो तो पता चले।

Jo Kabhi Mohabbat Karo To Pata Chale

लेकिन कभी तुम्‍हारी अंगुली कट जाने पर अपनी जीभ तले दबा सके,

तो पता चले,

और जिन्‍दगी तो उसने भी माना होगा तुम्‍हें,

लेकिन कभी खुदा मानके इबादत कर सके तो पता चले,

जो कभी मोहब्‍बत करो तो पता चले।

Jo Kabhi Mohabbat Karo To Pata Chale

खैर अब तो जाती हो तुम उसके संग दो जहानों में,

घूमती हो उसका हाथ थामे शहर-शहर ठिकानों में,

लेकिन है हिम्‍मत तुम में अगर तो जहां किया था मुझसे ताउम्र साथ निभाने का वादा,

कभी उस विराने हो आओ तो पता चले,

हमारी मोहब्‍बत को गुमनाम तो कर दिया है तुमने हर जगह से,

लेकिन वो दरक्‍त जहाँ पे गुदा है नाम मेरा और तुम्‍हारा,

जाओ और उसे बेनाम कर आओ तो पता चले,

जो कभी मोहब्‍बत करो तो पता चले।

Jo Kabhi Mohabbat Karo To Pata Chale

खैर अब तो उसके संग कई राते भी बिताई होगी तुमने,

सिरहाने उसके बैठ कर वो कहानियाँ भी सुनाई होगी तुमने,

सिरहाने उसके बैठ कर वो कहानियाँ भी सुनाई होगी तुमने,

सुबह की चाय भी जो पीती हो उसके साथ अक्‍सर,

और बची हो हलक में थोड़ी सी भी वफा अगर,

सुबह की चाय भी जो पीती हो उसके साथ अक्‍सर,

और बची हो हलक में थोड़ी सी भी वफा अगर,

तो वो जो मेरे मुँह लगी काफी जो मेरे साथ बैठकर पिया करती थी,

उस काफी का एक घूंट भी अपने गले से उतारकर दिखा सको

तो पता चले,

जो कभी मोहब्‍बत करो तो पता चले।

Jo Kabhi Mohabbat Karo To Pata Chale

उस मेरी मुंह लगी काफी का एक घूंट भी अपने गले से उतारकर दिखा सको तो पता चले,

और जो कभी तुम जानना चाहो कि गमे तनहाई क्‍या है,

और जो कभी तुम जानना चाहो कि गमे तनहाई क्‍या है,

तो उस Cafe में जैसे मै जाता हूं अकेले जाके एक शाम बिता आओं तो पता चले,

जो कभी मोहब्‍बत करो तो पता चले।

Jo Kabhi Mohabbat Karo To Pata Chale

खैर, तुम्‍हें तो शायद लगता होगा कि बर्बाद हो गया हूं मैं,

लेकिन नहीं इस गम में रहकर हर गम से आजाद हो गया हूं मैं,

अरे कितना चैन और सुकून हैं उस नींद में,

कितना चैन और सुकून हैं उस नींद में,

जो वो तकिया आंसुओं से गीला करके फिर पलट के उस पे सो सको,

तो पता चले,

जो वो तकिया आंसुओं से गीला करके फिर पलट के उस पे सो सको,

तो पता चले,

जो कभी मोहब्‍बत करो तो पता चले।

Jo Kabhi Mohabbat Karo To Pata Chale

अरे बड़ा मुश्किल है जमाने से अपना गम छुपाना,

बड़ा मुश्किल है जमाने से अपना गम छुपाना,

जो सुबह उठकर एक झूठी मुस्‍कान लिए काम पर निकल सको तो पता चले,

जो कभी मोहब्‍बत करो तो पता चले।

Jo Kabhi Mohabbat Karo To Pata Chale

खैर यूं तो तुमने भी जता दिया कि तुम्‍हें दर्द नहीं होता,

यूं तो तुमने भी जता दिया कि तुम्‍हें दर्द नहीं होता,

और मैं भी हूं बेफिक्र इतना कि मुझे भी फर्क नहीं पड़ता,

मैं भी हूं बेफिक्र इतना कि मुझे भी फर्क नहीं पड़ता,

अरे कोई अफसोस नहीं है मुझे तुम्‍हारे जाने का अब,

कोई अफसोस नहीं है मुझे तुम्‍हारे जाने का अब,

अरे तुम जाओं यार देर से ही सही कभी तुम्‍हें मेरी अहमियत तो पता चले,

जो कभी मोहब्‍बत करो तो पता चले।

Jo Kabhi Mohabbat Karo To Pata Chale

अरे तुम जाओं यार देर से ही सही कभी तुम्‍हें मेरी अहमियत तो पता चले,

लेकिन याद रखना बस इतना कि बहुत आसान है रिश्‍ते तोड़ देना,

किसी को छोड़ देना,

जो ताउम्र किसी एक‍ के होके निभा सको तो पता चले,

जो कभी मोहब्‍बत करो तो पता चले।

Motivational Hindi Shayri By Aman Chaurasia

Aman1.जब समय खराब चल रहा हो ना
तब गूंगे भी बोलने लगते है…

2.आजकल हर कोई अपना बनता है पर सिर्फ बातों से…

3.किसी को इतना भी दुख ना दे
की वो भगवान के सामने
आपका नाम लेते हुए
रोने लगे.

4.अच्छे दिन तो तब आयेँगे जब लोग…
मिठाई खिलाते हुए कहेँगे हमारे घर बेटी हुई है..!!
🙏🙏🙏

5.“जो होता है अच्छे के लिए होता है”
ये लाइन मजह एक आध्यात्मिक बात ही है।

6.रिश्तों की खूबसूरती एक दूसरे की बात बर्दाश्त करने में है
खुद जैसा इंसान तलाश करोगे तो अकेले रह जाओगे●

7.मेरी ना सही मेरी सलिखे को तो दाद दे …
तेरा ही जिक्र करता हु बगैर तेरे नाम का..❣

8.दुआएँ जमा करने में लग जाओ साहब…
खबर पक्की है
“दौलत और शोहरत” साथ नहीं जायेंगे…

9.किसी की पसंद बनना जरूरी तो नही..
पर किसी को पसंद करना ये आपके दिल पर है..

10.देखा करो कभी अपनी माँ की आँखों में,
ये वो आईना है जिसमें बच्चे कभी बूढ़े नहीं होते…! !

#Aman

Jai ojha hindi Shayri lyrics Ab Fark Nahi Padta Part – 2

(Suno Jaan)
Ab Fark Nahi Padta Part – 2

बात ऐसी है की इश्क तो जरूर होता है,

लेकिन इश्क में कटता भी सबका है।

Ek Vaqt Tha Jab Tujhse Beintiha Pyar Karta Tha

एक वक़्त था जब तुझसे बेइंतिहा प्यार करता था,

अब तो तू खुद मोहब्बत बन चली आये फर्क नहीं पड़ता।

अब तो तू खुद मोहब्बत बन चली आये फर्क नहीं पड़ता,

एक वक़्त था जब तेरी परवाह करता था।

अब तू मेरी खातिर फ़ना भी हो जाये फर्क नही पड़ता,

Ek Vaqt Tha Jab Tujhse Beintiha Pyar Karta Tha

अब क्या है social media का जमाना है और social media की relievence,

आज कल के प्यार-मोहब्बत में बहुत ज्यादा है।

तो उसे आज की जो 21 वी सदी की जो शेरो शायरी है उसमे दर्ज करना बेहद जरूरी है,

की एक वक़्त था जब तेरी id के नजाने कितने चक्कर लगाता था।

actually होता ऐसे है की ब्रेकअप के बाद कुछ भी पोस्ट डालती है,

तो हमें ऐसा लगता है वो हमारे ऊपर है even ये होता है कि-

जिसका दूर दूर तक कोई रिश्ता नही होता हम मतलब निकाल लेते है।

even वो कुत्ते की भी फोटो लगाती है तो हमें ऐसा लगता है हमारे उपर है यार,

कुत्ते की फोटो में तो जरुर लगता है।

एक वक़्त था जब तेरी id के नजाने कितने चक्कर लगाता था,

तेरी हर पोस्ट तेरे हर status के मायने निकला करता था।

एक वक्त था जब तेरी id के न जाने कितने चक्कर लगाता था,

तेरे हर पोस्ट के हर status के मायने निकाला करता था लेकिन

अब सुन ले , अब सुन ले

जब तूने मुसलसल खेला है Block और Unblock का खेल मेरे साथ,

जब तूने मुसलसल खेला है Block और Unblock का खेल मेरे साथ,

जा मेरी id ता जिन्दगी तेरी Blocklist में रख ले, मुझे फ़र्क नहीं पड़ता।

Ek Vaqt Tha Jab Tujhse Beintiha Pyar Karta Tha

जा मेरी id ता जिन्दगी तेरी Blocklist में रख ले, मुझे फ़र्क नहीं पड़ता

याद कर वो वक्त जब तेरी Dp देखकर ही ,

मेरे धडकने तेज हो जाया करती थी !

याद कर वो वक्त जब तेरी Dp देखकर ही ,

मेरे धडकने तेज हो जाया करती थी !

और अब तू किसी रह गुजर पे बिलकुल करीब से गुजर जाये तो फर्क नही पड़ता।

Ek Vaqt Tha Jab Tujhse Beintiha Pyar Karta Tha

एक वक़्त था जब तुझे तकलीफ में देखकर आँखे मेरी भर आया करती थी।

तुझे जो कोई खरोच भी आ जाये तो मेरी साँस अटक जाया करती थी।

तुझे जो कोई खरोच भी आ जाये तो मेरी साँस अटक जाया करती थी।

लेकिन अब सुनले की अब तो बेफिक्री का सुरूर है मुझपे कुछ ऐसा, कि कम्बख्त तेरी सांसे भी थम जाये तो मुझे फर्क नही पड़ता।

Ek Vaqt Tha Jab Tujhse Beintiha Pyar Karta Tha

हाँ तेरा कहना भी वाजिब है कि इसे इश्क नही कहते,

जो ये कविता सुन कर एक बेवफा को मेरी मोहब्बत पर शक हो जाये तो मुझे फर्क नही पड़ता।

एक वक़्त था जब तेरे तोरे इश्क की मिशाले दिया करता था।

प्यार-मोहब्बत के मायनो में बस कसमे वादे लिखा करता था।

अरे क्या कमाल हस्र किया है तूने वाफादाराने उल्फत का,

कि अब ये सारा का सारा शहर बेवफा हो जाये मुझे फर्क नही पड़ता।

हा माना की तेरी खूबसूरती मशहूर है दुनिया जहा में और इस कविता से तेरी बेवफाई के चर्चे हो जाये तो मुझे फर्क नही पड़ता।

Ek Vaqt Tha Jab Tujhse Beintiha Pyar Karta Tha

एक वक्‍त था जब तेरी ए‍क झलक पाने को तरसजाया करता था,

तू जिस कोने से नजर आती है मै वहीं बस ठहर जाया करता था,

अरे बिठा रखा था जो मुद्दतों से इन पलको पे मैने,

उसूलों से तो गिर गयी है अब नजरों से गिर जाये तो फर्क नहीं पड़ता।

बदसीरत हो गर तो फजूल है ये खूबसूरती तुम्‍हारी,

फिर भले खुदा तुम्‍हें हसी चेहरे बख्‍श जाये तो फर्क नहीं पड़ता।

एक वक्‍त था जब तुझे शहरों-शाम बैठकर मनाया करता था।

गुस्‍ताखियाँ तेरी हुआ करती थी और दरख्वास्‍ते मैं किया करता था।

तेरे उस बेवजह रूठने को मनाया है न जाने कितनी दफा,

कि भले ही पूरी की पूरी कायनात खफा हो जाये मुझे फर्क नही पड़ता।

अरे जो मेरी न हो सकी वो उसकी क्‍या होगी,

अब भले कुछ वक्‍त के लिए किसी गैर का दिल बहल जाये तो फर्क नही पड़ता।

Ek Vaqt Tha Jab Tujhse Beintiha Pyar Karta Tha

एक वक्‍त था जब तेरी महक पाने को तू जहाँ से गुजरती थी।

मै वहाँ से गुजरता था जो हवा तुझे छूती है,

वो मुझे छू जायेगी इस भरोसे से चलता था।

लेकिन अब सुन ले कि अब तो सूफी हूँ की खुशबू है खुद की मेरी साँसों में,

अब तो भले तू इस हवा में भी घुल जाये तो मुझे फर्क नहीं पड़ता।

कि जब से मिट्टी होना पसन्‍द आया है मुझकों जय को,

फिर भले महलो मे आशियां हो जाए तो फर्क नही पड़ता।

खैर न अब तुझसे नफरत है, न मोहब्‍बत है कोई गिला-सिकवा नही है।

न कुछ अनसुना है न अनकहा है बचा कोई सिलसिला नहीं है।

महज इन कविताओं में जिक्र बचा है तेरा और सुन ले,

कि इतना ताल्‍लुक भी मिट जाये फर्क नहीं पड़ता।

राबदा न हो बेवफाओं से तो ही बेहतर है मेरे यार सब सुन लेना,
फिर रिश्‍ता भले काफिर दिलों से हो जाये तो फर्क नही पड़ता।

Ek Vaqt Tha Jab Tujhse Beintiha Pyar Karta Tha
#Nilesh

Breakup Shayri

1.Mana Ki Dooriya Kuch Badh Se Gyi Hai,
Lekin Tere Hisse Ka Waqt Aaj Bhi Tanha Hi Gujarta Hai.

2.Tumhari Jagah Aaj Bhi Koi Nhi Le Sakta,
Pata Nahi Wajah Tumhari Khubi Hai Ya Meri Kami.

3.Meri Barbaad Zndgi Ki Sazaa Tum Ho,
Mar Mar Ke Ji Rahe Hain Wajah Tum Ho…!!

4.Bahut Zaroori Hai In Ansuon Ka Behna Bhi,
Kisi Ke Dard Ka Sadka Nikalta Rehta Hai.

5.Ab Koi Fark Nahi Padta
Khwaishe Adhoori Rehne Par
Maine Bahut Kareeb Se Dekha
Hai Khud Ko Toot Te Hue…!!

6.Nadaani Me Hum Kise Apna Samajh Baithe,
Jo Dikhaya Us Bewfa Ne Sapna Use Hum
Haqikat Samajh Baithe, Dekho Aaj
Chod Diya Hame Kisi Gair Ke Liye,
Jise Hum Apna Hum Suffar Samajh Baithe.

7.Ye Alag Baat Ab Koi Rishta Nahi,
Pyar Se Kyu Magar Dekhna Chod Du,
Meri Kismat Me Shayed Nahi Tu Sanam,
Kya Khuda Se Tujhe Mangna Chod Du!

#Nilesh