ऐसे पिता को दिल से सलाम ।

शुक्रवार दोपहर दुष्कर्म के अभियुक्त का वध करने के वाले दुष्कर्म पीड़िता के पिता भागवत जी ने पुलिस को यह बयान दिया है और कहा है कि “मुझे दिलशाद की हत्या करने का कोई पछतावा नहीं है। घुट-घुटकर जीने से अच्छा है जेल में रहना। फांसी चढ़ जाना।”

भागवत जी ने बतलाया कि समाज के ताने और दिलशाद की हरकतों से परेशान होकर उन्होंने यह कदम उठाया।
पुलिस ने भागवत जी का बयान दर्ज किया है। बयान के मुताबिक, भागवत निषाद ने कहा है कि समाज के ताने सुन-सुनकर वह इतना परेशान हो गये थे कि आत्महत्या करने की सोचने लगे थे। भागवत जी ने आगे बताया कि बीच जमानत पर छूटे दिलशाद की हरकतों ने मेरी परेशानी को गुस्से में बदल दिया। खुदकुशी करने से परिवार का भविष्य खराब होने के डर से इरादा बदल दिया। सोचा क्यों न परेशानी की वजह को ही जड़ से खत्म कर दिया जाए और उसकी इसलिए उन्होंने दिलशाद का वध कर दिया।

भागवत जी ने बताया कि एक समय था कि घर में कोई काम पड़ने पर दिलशाद मदद करता था, लेकिन समय के साथ उसके तौर तरीके बिगड़ते गए। दिलशाद उसके घर के सामने ही पंचर की दुकान लगाता था। उसे समझाया और डांटा भी। इसके बाद वह दुकान बंद कर गोला जाकर काम करने लगा था। लेकिन, उसकी हरकतों में सुधार नहीं आया। एक दिन बेटी कॉलेज से घर आ रही थी, तभी उसे जबरन लेकर हैदराबाद चला गया। पुलिस ने छह दिन बाद केस दर्ज किया था। लड़की को हैदराबाद से बरामद किया। दिलशाद जेल गया। मैं दो साल पहले ही सेना से सेवानिवृत्त हुआ था।

जब भी कहीं जाता था, बेटी के बारे में लोग कानाफूसी करते थे। इस कारण घर से बाहर भी नहीं निकलता था। किसी तरह परिवार वालों ने संभाला। जब तक दिलशाद जेल में था, तब तक तो ठीक था। जेल से बाहर आते ही वह मुझे और बेटी को परेशान करने लगा। कभी घर के बाहर आकर जोर-जोर से चिल्लाता तो कभी कुछ और हरकत करता था। इससे मुझे गुस्सा आता था, लेकिन लड़की की गलती भी लगती थी। इसी बीच खुदकुशी का ख्याल मन में आया, लेकिन फिर सोचा कि मेरे बाद परिवार का क्या होगा ?

दिलशाद सबका जीना मुश्किल कर देगा। इसके बाद कांटे को ही रास्ते से हटाने का फैसला कर लिया। मैने बेटी के अपमान व प्रताड़ना का बदला ले लिया है। अब बेटी या परिवार को कोई परेशान नहीं करेगा…!!

भागवत निषाद (भूतपूर्व फौजी) गोरखपुर #copy

2022 के शुरुवाती वक्त में कुछ हुआ है तो ये यही हुआ है । इनलोगो के साथ यहीं करना ही चाहिए क्योंकि हमारा संविधान इन्हें सजा नहीं दे सकता, वो इन्हें पनाह देता है, जिसका नाम जेल हैं, ऐसे लोग जेल जाते हैं आराम से अपना जिंदगी जीते है,

भागवत निषाद जी ने बिलकुल सही किया।
ऐसे पिता को दिल से सलाम हैं ।

Pic – हिंदुस्तान अखबार

मंटो

मर्द औरत से अदाएं तवायफ़ वाली और वफ़ाएं कुत्तों वाली चाहता है।


जो लोग ये समझ नहीं पाते
कि औरत क्या चीज़ है,
उन्हें पहले ये समझने की ज़रूरत है कि –
औरत चीज़ नहीं है !

मंटो

Kavita

बहुत कुछ दे सकती है कविता
क्यों कि बहुत कुछ हो सकती है कविता
ज़िन्दगी में
अगर हम जगह दें उसे जैसे फलों को जगह देते हैं पेड़ जैसे तारों को जगह देती है रात,

IRCTC or USER

तो समझ तो आ ही गई होंगी , अगर गंदे ऐड दिख रहे हैं , किसी भी ऐप्स पे , ( फेसबुक, गूगल, इंस्टाग्राम, या कोई भी सरकारी ऐप्स ) तो वो आपके कर्म दिख रहे हैं, जो आप छुप छुप के करते है , कंपनी की AI टेक्नोलॉजी हमे वहीं ऐड दिखाती हैं, जो हम पहले सर्च कर चुके होते है, जिसमें हमारा इंट्रेस्ट होता है ।😁
#Nilesh .. #irctcofficial