तुम्हें सोचना ।

तुम्हे सोचना सबसे अच्छा काम होता है। कहीं अकेले में बैठ कर बादलों में तुम्हारे अक्स की कल्पना कर तुम्हारी आंखे ,तुम्हारे बाल , तुम्हारी मुस्कान सोचना दिल को सुकून दे जाता है। और फिर अक्सर ही हवाओं में तुम्हे सोच कर तुम्हे बाहों में भरने का उपक्रम कर लेता हूँ।

#Nilesh.

5 thoughts on “तुम्हें सोचना ।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s