मोहब्बत

जब किसी को पहला पहला प्यार मिलता है,

तो वो उसे अब तक उसकी life में क्या,क्या हुआ,,,कैसे हुआ, क्यों हुआ,,,,सब कुछ बताना चाहता है,
सारी important और unimportant बातें वो ऐसे बताता है जैसे की किसी खजाने का रहस्य बता रहा हो,!

अगर दिन भर में कोई नयी बात होती है तो वो सबसे पहले उसी को बताना चाहता है,
कोई सीक्रेट नहीं रखना चाहता,कोई परदा नहीं,
वो एक खुली किताब बन जाना चाहता है,
अपनी मोहब्बत के लिए!

सबकुछ बांटना चाहता है वो अपनी मोहब्बत के साथ, लेकिन वो अपने साथी को, किसी और के साथ रत्ती भर भी बांटना गवारा नहीं करता!

उसको मालुम है कि ये possible नहीं है,
फिर भी वो अपने साथी से भी यही expectation रखता है, और सोचता है कि उसका साथी भी अपना सबकुछ उसके साथ share करेगा!!

लेकिन मोहब्बत में उम्मीद रखना एक तरह का गुनाह होता है!
जहाँ सबसे ज्यादा उम्मीद होती है वहीँ दिल टूटने के सबसे ज्यादा खतरे होते हैं!

इसलिए अगर मोहब्बत को पूरी शिद्दत से जीना चाहते हो तो कोई expectation मत रखो,,!!😔

निलेश

One thought on “मोहब्बत

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s