और उसकी याद आई

आज बारिश की बूंदे पड़ी और उसकी याद आई ,
लो फिर से शाम ढली और उसकी याद आई ।

किसी ने चुपके से आ के
हमे यु थाम लिया ,
नजर – नजर से मिली और उसकी याद आई ।
ज़रा से होंठ हिले थे कि
आंसू बह निकले,
फिर एक चुप्पी सी लगी और उसकी याद आई ।

किसी की बातों की बारिश में
हम भी भिंग गए ,
किसी ने बात ना कि और उसकी याद आई ।

5 thoughts on “और उसकी याद आई

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s