दहेज प्रथा ( Dowry System )

दहेज प्रथा एक अभिशाप

समाज के तरीको ने ही बनाया हैं बेटी को पराया
दहेज़ हो या कन्या भ्रूणहत्या अपनों ने ही कहर हैं बरसाया .,
Mai Aaye Din news Dekhta rhta hu ki. Ek Hi Ghar Ki Kai Betiyo Ne Ek Hi Fan Se Fasi Lagakar Jaan De Di Thi….Unki Gareebi Ne Unhe Yeh Kadam Uthane Pe Majboor Kar Diya Tha, Maa Baap Ki Aakho Me Udasi Nahi Dekhi Gayee Unse. Jis Gareeb Baap Ke Liye Do Waqt Ki Roti Jutana Mushkil Ho, Woh Betiyo Ka Dahej Kaha Se Juta Payega….
To Dosto Yaaro itna hi bolunga.. Soch badlo Desh badlega.

अरमानो का मोल लगाना बंद करो ,
दहेज़ के लिए लड़का बेचना बंद करों..

Mere sath kuchh din pahle ek Ghanta hui. Mai Apne dosto ke sath ghum rha tha. To ek dost ne bataya ki uska Job ho gya hai. Sun kar bahut khushi hui. But jab usne kha ki mai Dahej me Car lunga.. yaar bahut dukh hua. Maine use Smjhaya but o mujhse hi Jhgar pra.
Dosto Yaaro jab tak hum Young Logo Apna soch nhi badlenge . Tab tak kuchh nhi hoga. Ha kuchh logo ka bolna hai. Ki padhai or job lene me bahut paisa kharch hota hai. Mai manta hu but iska MATLAB ye to nhi ki hum uss paisa ka bhugatan Dahej lekar kare. Aap uss paise ka bhugatan apne Job se bhi kar skte hai.. aisa karne se kisi Garib bap ko fasi nhi lagani pregi. Koi Beti paida hone se nhi Darega. Kisi kishan ko Apni Jamin nhi bechani pregi. Kisi kishan ko Apni Zindgi bhar ki kamai Dusro ko nhi deni padegi.. isiliye Dosto Ab iss Dahej pratha ko Band Kro.

दहेज

दहेज का मतलब किसी चीज की मांग करना या (डिमांड) करने से हैं. दहेज वह चीज है जब वधू – विवाह में अपने पिता के घर से कुछ सामान अपने साथ लेकर आती हैं. वह दहेज़ कहलाती हैं. दहेज़ पिता द्वारा अपनी बेटी को विवाह में अपनी बेटी के वर पक्ष को दिया जाता हैं. दहेज़ का यह खेल प्राचीन काल से चला आ रहा हैं. प्राचीन काल में समाज ठीक था आजकल दहेज एक प्रकार का दहेज लोभियों के लिये एक व्यापार की तरह बन गया हैं.
दहेज प्रथा
प्राचीन समय में लड़की अपने मायके से दहेज में अपने साथ जरुरत की चीजो के साथ – साथ कुछ पालतू जानवर भी लाया करती थीं, जैसे- गाय बैल आदि. आज भारतीय समाज में यह एक सबसे बड़ा कलंक हो गया हैं. यह प्रथा गाँव और शहरों में प्रचलित हैं. आजकल समाज में देखा गया हैं की लड़का अगर अपने दम पर ऊँचे पद पर हैं तो दहेज की डिमांड ज्यादा हो जाती हैं तथा अगर लड़का छोटे पद पर भी हो तो फिर भी दहेज माँगा ही जाता हैं. इससे हम यही कह सकते हैं कि यह विवाह न होकर एक लड़की का सौदा हो रहा हैं.

दहेज – समाज में इसके परिणाम :

आज ये कुप्रथाएं देश के उन्नति के मार्ग पर एक रोड़ा हैं. देश – विदेश में प्राचीन काल से ही लड़की को विवाह में गिप्ट, उपहार आदि दिया जाता था. ऐसा नहीं की वर पक्ष लड़की के माँ – बाप पर कोई दहेज की डिमांड रख दे,
परन्तु आजकल समाज में इसका उल्टा मतलब हो गया हैं. आजकल शादी से पहले सगाई में दुल्हे के पक्ष से शर्त रख दी जाती हैं की दुल्हे को विवाह में क्या-क्या चीजे चाहिए. दहेज़ माँगने के पीछे और भी कारण है जैसे – अगर कोई लड़की दिखने में ठीक ना हो, विकलांग हो, कद छोटा हो, पढ़ी-लिखी नहीं हो तथा और भी कोई कमी जिसमे लड़की के माता-पिता को लड़की की शादी कराने में कोई दिक्कत आती हैं तो वही इसी मौके का फायदा लड़के वाले उठाते हैं और मोटी रकम की डिमांड लड़की वालो के पास रख देते हैं.

जिससे लड़की के माँ-बाप को हताश होकर ज्यादा दहेज देना पडता हैं. आजकल यह भी देखा गया हैं कि लड़की अगर मायके (माँ के घर) से दहेज़ नहीं लाती हैं तो उसे ससुराल में उसका जीना हराम हो जाता हैं. ससुराल में सास, ससुर, नन्द और दुल्हन के पति को भी देखा गया हैं ये सब लोग दुल्हन के ऊपर ताने मारते हैं और उसका ससुराल में रहना मुश्किल कर देते हैं.

आजकल हमने समाज में देखा हैं कि कई जगह तो लड़का खुद लड़की को दहेज ना लाने पर तलाक तक दे देता हैं जिससे लड़की की जिंदगी खराब हो जाती हैं. आज भी भारतीय समाज में सास-बहु का झगड़ा होना आम बात हैं. झगड़े का भी यही माजरा हैं की सास अपनी बहु को बार – बार ताने मारती हैं कि तेरे बाप ने तेरे को क्या दिया. ये लोग समाज में दहेज के लोभी होते हैं. दहेज़ के कारण आज समाज में हत्याकांड हो रहे रहे हैं.

दहेज़ के लोभी यह नहीं मानते की एक तो लड़की के पिता ने अपनी जान से प्यारी लड़की को हमें दिया और ऊपर से उन पर कोई प्रेसर क्यों डाले. इनके लिये लड़की ही दहेज होना चाहिए था लेकिन ये दहेज़ को एक व्यापार और एक सौदा मान बैठे हैं. ये दहेज़ के दानवों को लड़की के साथ – साथ अच्छी संपति चाहिए.

आज समाज में दहेज एक विनाशकारी समस्या बन गई हैं. इसी दहेज के कारण एक – दुसरे के रिश्ते टूट रहे, मार – पिट तथा आत्महत्या हो रहे हैं. जिसका मुख्य कारण विवाह में दी जाने वाली दहेज (संपति) जिम्मेदार हैं. अगर इसी तरह चलता रहा तो समाज का वातावरण के साथ – साथ आने वाले समय में देश को सामाजिक कुरातियों से भी लड़ना पड़ेगा.
सरेआम नीलामी की मौहर लगती हैं लड़के के माथे पर ,
और सीना तान इज्ज़त पाने खड़े हैं लड़की के द्वारे पर..!

हम सभी लोगो को मिलकर समाज की इस बुरी कुरीति से लड़ना चाहिए और ” न दहेज़ देंगे और न दहेज़ लेंगे “ इस विचार को आत्मसात करना चाहिए. जब हम शुरुआत करेंगे तभी परिवर्तन आएगा. यह एक दिन में ठीक नहीं होने वाला. परिवर्तन तभी होगा जब हम सब लोग इसका मिलकर सामना करे और दहेज़ के खिलाफ मिलकर लड़ें. आगे इस लेख को पढ़कर आपके विचारो में कुछ परिवर्तन आया हो तो इस आर्टिकल को दुसरे लोगो के साथ फेसबुक पर जरुर शेयर करे.

Advertisement

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s